Tuesday, May 25, 2010

मेरी अम्बुलेंस में
तीन लोग थे
बाकी अपनी-अपनी
कार से पहुंचे थे
कंधा देने से भ यूं
कतराए
गोया सभी अपने को
मेरे बाप का
दामाद समझते थे
---------

No comments: