Thursday, August 15, 2013

SWATANTRATA JAAN SE PYARI HAI

 हम सब भारत के वीर सिपाही 
 जननी भारत भूमि हमारी है 

 राम ,कृष्ण ,गौतम ,कणाद 
 की महिमा सारे जग से न्यारी है 

 उत्तर में हिमालय , स्वर्ग काश्मीर 
 दक्षिण में सागर ,पूरब बंगाल की खाड़ी है 

 विदेशी ज्ञान  पाने को आते 
 महान यहाँ के तपस्वी ग्यानी हैं 

 शिवा , प्रताप की गाथा अमर 
 याद हमको आज जबानी है 

 धीरज धर लो भारत माता 
 तेरी स्वतंत्रता जान से प्यारी है     

Saturday, July 20, 2013

MOHABBAT SASTI HO NA JAYE

कहीं   दुश्मनी  में  कमी  हो  न  जाये 
दुश्मनी   कहीं   दोस्ती    हो  न  जाये 

तुम लगाकर ठोकर फिर गले लगाओ 
कहीं इससे मुहब्बत सस्ती हो न जाये 

तुम्हारी मुहब्बत कहीं फिर खेल न खेले 
कहीं दुनिया मेरे लिए अजनबी हो न जाये 

अदा  चित्ताकर्षक  अंदाज़   शायराना 
कहीं   क़यामत   अभी    हो   न   जाये 

मैं   तुमसे   सिर्फ    एक   जाम   माँगू 
कहीं   तुमसे  कजअदाई  हो  न   जाये 

न करो  मुझसे  बातें इस  तरह  सनम 
कहीं ज़माना तुम्हारा मुद्दई हो न जाये  

तोहमतें  मुझपर  तुम्हारी  निशानी  हैं 
कहीं  मौत  ही मेरी जिंदगी हो न जाये 

नफ़रत का जज्बा कहीं खत्म हो न जाये 
कहीं   आतिशेदिल   ठंडी   हो   न   जाये 

चंद महीनों का ही साथ रहा  मेरा  तुमसे 
कहीं  फिर  यह दूरी नजदीकी हो न जाये 

तुमको करीब पाकर मैं पशेमान हो जाता हूँ 
कहीं मेरा साथ तुम्हारे लिए परेशानी हो न जाये 

तुमसे बातें भी करूँ तो अब किस तरह 'रतन'
कहीं फिर मुहब्बत की बदगुमानी हो न जाये 

------------ ----------- ------------ -------------
बर्बादी  ए किस्मत का तमाशा देखा 
न पूछो   इस  दुनिया  में  क्या देखा 
साकी मेरे पास  लाइ  पैगामेउल्फ़त 
मगर दूसरे के  हाथ में पैमाना देखा 
------------- ------------ ------------ ------------- 

Thursday, July 18, 2013

kya karoon..

दिल में ही नहीं रहा जब बाकी 
                अहसासे-मोहब्बत कोई 
होगी मुलाकात सफ़र में तुमसे 
                इन इरादों का क्या करूँ 
उठ उठ कर बदल जाने लगी है 
                जबसे हर निगाह 
हर गुल बन गया है काँटा 
                 तेरे सुरमई आरिजों का क्या करूँ 
दिल की तपती रेतीली जमीं पे 
                  न हुई जो इनायते-सावन कभी 
क्या ख़ाक गुल खिलेगा 
                  तेरी आँख की बरसातों का क्या करूँ 
बेकार हैं बातें उलफतो-मुहब्बत की 
                  बेकार कसमें गंगोजमन के  
बदल गया तक़दीर का पहलू तो 
                  इन सहारों का क्या करूँ 
मेरे  बहार तुम ही न कर सके 
                  सूरत कोई तसकीने-वफ़ा को पैदा 
फिर इन शाम की हवाओं 
                  इन मौसमी बहारों का क्या करूँ 
यूं तो गुल गुलचीं भी अपने थे
                  चमन भी अपना था 
कली न हुई अपनी तो तितलियों के 
                   रंगीं इशारों का क्या करूँ 
माना जख्म देने के बाद तुम 
                   मरहम भी लगाते हो 'रतन'
दिल पहले ही जख्मों से चूर है 
                    तेरे दिए जख्मों का क्या करूँ ....... 
----------- ---------------- -------------------

"तेरा रूप सिंगार है कुछ ऐसे

  झील में उतरा हो  चाँद जैसे "                    

Saturday, July 13, 2013

YE KYA KIYA ....

जला के ख़त मेरे सबके सामने 
                   ये तुमने क्या किया 
सोचा था  तुमको बावफ़ा 
                    निकले तुम बेवफा 

खता  क्या मालूम  नहीं 
                    जाने-अनजाने ये  क्या हुआ 
तुम थे मुस्सव्विर का कमाल 
                    दे दिया अनजाने में दगा 

समझे न थे फितरत  तुम्हारी 
                    किस जनम  का बदला लिया 
मज़बूर न होते  अगर हम  भी 
                     हम भी कर देते हर राज़ बेपर्दा 

समंदर का  उठान था  कभी 
                      प्यार हमारा तुम्हारा 
 डुबा दिया सफ़ीना ज़िन्दगी का 
                       पकड़ कर के किनारा 

न सोचते तुम्हारे बारे में कभी 
                       गरचे तुम  समझे होते पराया 
न सोचा था ,न सोचते थे दरअसल 
                        तुम्हे फूल समझे थे निकले काँटा 

किस दौर में आके ठहर गया 
                        फ़साना हमारा-तुम्हारा 
तुम गाफिल न थे मगर 
                        फिर भी समझे हमें बेगाना 

बेचने की कोशिश की जिसे 
                        तुमने सरे-बाज़ार 
ये फित्न तुमको महँगा पड़ा 
                         अनमोल था 'रतन' तुम्हारा     

--------  -------- ------- ------- ------- ------- -------
    
अगर किसी ने दुश्मनी 
                            जान-बूझ कर की है 
तो हमने भी जनम-जनम तक 
                             निभाने की कसम खाई है 
ये और बात है वो 
                             कायल न हो सरफरोशी का 
पर सर न झुका कर 
                             सर कटाने की कसम खाई है  
वो नहीं मिलता अगरचे 
                             ख्वाहिशे-अदावत रख कर दिल में 
हम भी न मिलेंगे उससे 
                              ता-क़यामत हमने भी कसम खाई है 

----------------------------------------------        
                                                                 -->   राजीव 'रत्नेश'  
                                                                        ==========