Friday, June 10, 2011

nimantran

बहिश्त से बुलाने 
            क्या फ़रिश्ते आएँगे
या दोजख से कुछ 
             मनचले चले आएँगे 
वक्ते-महशर क्या होगा 
             हमें मालूम नहीं 
क़यामत के बाद तो 
             सनम मिलने आएँगे 

No comments: