Saturday, July 13, 2013

YE KYA KIYA ....

जला के ख़त मेरे सबके सामने 
                   ये तुमने क्या किया 
सोचा था  तुमको बावफ़ा 
                    निकले तुम बेवफा 

खता  क्या मालूम  नहीं 
                    जाने-अनजाने ये  क्या हुआ 
तुम थे मुस्सव्विर का कमाल 
                    दे दिया अनजाने में दगा 

समझे न थे फितरत  तुम्हारी 
                    किस जनम  का बदला लिया 
मज़बूर न होते  अगर हम  भी 
                     हम भी कर देते हर राज़ बेपर्दा 

समंदर का  उठान था  कभी 
                      प्यार हमारा तुम्हारा 
 डुबा दिया सफ़ीना ज़िन्दगी का 
                       पकड़ कर के किनारा 

न सोचते तुम्हारे बारे में कभी 
                       गरचे तुम  समझे होते पराया 
न सोचा था ,न सोचते थे दरअसल 
                        तुम्हे फूल समझे थे निकले काँटा 

किस दौर में आके ठहर गया 
                        फ़साना हमारा-तुम्हारा 
तुम गाफिल न थे मगर 
                        फिर भी समझे हमें बेगाना 

बेचने की कोशिश की जिसे 
                        तुमने सरे-बाज़ार 
ये फित्न तुमको महँगा पड़ा 
                         अनमोल था 'रतन' तुम्हारा     

--------  -------- ------- ------- ------- ------- -------
    
अगर किसी ने दुश्मनी 
                            जान-बूझ कर की है 
तो हमने भी जनम-जनम तक 
                             निभाने की कसम खाई है 
ये और बात है वो 
                             कायल न हो सरफरोशी का 
पर सर न झुका कर 
                             सर कटाने की कसम खाई है  
वो नहीं मिलता अगरचे 
                             ख्वाहिशे-अदावत रख कर दिल में 
हम भी न मिलेंगे उससे 
                              ता-क़यामत हमने भी कसम खाई है 

----------------------------------------------        
                                                                 -->   राजीव 'रत्नेश'  
                                                                        ==========  

No comments: