Friday, November 20, 2009

फिसलन...... !!!!!!

मंजिल तक वो नहीं पहुचते
जो आगाज़ से ही डर जाते हैं ,
मट्ठा भी फूंक_फूंक कर पीते हैं
हैफ ! लोग दूध से भी जल जाते हैं ।

.....................................................

बाहों में आना ज़रूरी था अगर ,
होंठ से होंठ क्यो न मिल गए ।

फिसलना इश्क मे मुनासिब था अगर ,
फिसलते_फिसलते क्यो संभल गए ।

अपना समझ कर क्या भूल हुई
तुम गैरों में फ़िर क्यों भटक गए ।

संगीन तो न था मामला इतना
फ़िर क्यो न लौटे देर रात गए ।

अफलातून हैं आप फ़ोन न उठा सके ,
हम किस से कहें वो वादे से फ़िर गए ॥

कहते रहे वफ़ा की राह लम्बी नहीं ,
फ़िर आप क्यो न पहले ही बिछड़ गए ।

चांकगरेबान ही होना था तुमको 'रतन'
ख़ुद को तुम अपनी लगा नज़र गए

No comments: