Sunday, March 28, 2010

लाचारी न होती ..... !!!

काश ! मुहब्बत लाचारी न होती ,
मुझ पर तुम्हारी मेहरबानी न होती ।

अपने भी दुश्मन बन गए आखिर
काश निगाहों की मेजबानी न होती ।

हमारी मुहब्बत कोई पहचाने न
दिल से दूर यह बदगुमानी न होती ।

दूसरों की बदमिजाजी न होती ,
गर जो तुम्हारी नातवानी न होती ।

ख़ामोशी की ज़बान सभी समझते हैं ,
मुहब्बत कभी भी ज़ुबानी नहीं होती ।

खुद से दूर हुए तुम हमसे 'रतन',
गोकि औरत कभी बेचारी नहीं होती ।

No comments: