Monday, April 4, 2011

Navvarsh

सोचता हूँ नववर्ष को 
             क्या यूं ही बह जाने दूं
मैं कुछ लिखूं तुम पर 
              यदि तुम भी कुछ लिख सको 
व्यतीत को भुला आज फिर से 
               तेरा श्रिंगार कर सकूं 
एक बार फिर से जो 
                गले आ के मिल सको       

No comments: