Friday, January 25, 2008

आगाज़ .....!!!!!!!!

क्या करेगा कोई इस मोहब्बत के नाम से,
वाकिफ नही हम भी इसके अंजाम से,
खुदा नज़र_ए_बद से बचाए,
तुझे हर हाल मे, हमारा क्या है,
हमने काटे माह_ओ_साल इंतज़ार मी !!!!!!

No comments: