Friday, February 13, 2009

तेरे दिए ज़ख्म ......!!!

तेरे दिए ज़ख्म गुलाब बन कर
महकते हैं
इसीबहाने तुझे हम हर वक्त
याद करते हैं
चारागर कोई नहीं जहाँ मे
सिवा तुम्हारे
इसीलिए सिर्फ़ तुम्ही से हम
प्यार करते हैं ।

No comments: