Monday, July 20, 2009

वो चीज़ ही है कुछ और ,..!!

हम जिस पर मर रहें हैं
वो चीज़ ही है कुछ और
जहाँ मे दूसरा नहीं
उसके सिवा कोई और ।

बना रहा था खुदा जाने कब से
चाँद सितारों को
भूले से बन गया उससे
वही बस मेरा और ।

हमें भी यकीन था
उसके वादे का
शाम को मिलने का वादा था
पूछा तो बोले वो शाम थी और

तगाफुल न हुआ उससे कभी
हक मार दिया किसी का और
माना वो ज़हीनो से ज़हीन है
उसका भी नहीं कोई और ।

ये बात अजीब लगती है
क्यो नही उसका और
पुछा तो बोली इठला कर
दीवाना तुमसे नहीं और ।

फूलों से नाज़ुक लब हैं
शफ्फाक नहीं कोई और
संग तराश हार गए
नही बन सका उससे और ।

हम ही है की लफ्जों में
पीरों के बनाया बेमिसाल
वरना शायरी का भी
होता है कोई और _छोर ।

शिकवा उससे नहीं
ज़माने से है गिला
जिसे हम चाहते रहे
पर मिला कोई और ।

मिसाल नहीं कहीं
उसके शबाब का और
माहताब शर्मा जाता है
छुओ जाता है चकोर ।

शबनम कहू उसे या
कहू सीप मे पला मोत्ती
और क्या कहें ताज को
'रतन' का भी नही कोई और ॥ !!!!!!!

No comments: