Thursday, March 19, 2009

शेर

ये तेरी काजल से भी काली आखें
मिठाई से भी मीठी तेरी बातें
लब_ऐ_गुन्चएं गुलज़ार हैं तेरे
ला रहीं हैं बाद_ऐ_सबा तेरी यादें !!!

No comments: