Friday, March 13, 2009


रंग पोतपात के

कोई गुझिया खिला जाएगा

ये दिल ऐसे ही थोड़े

बहल जाएगा

No comments: