Friday, March 13, 2009

मलते रहें लोग गुलाल
कितना ही
गाल हो पाता नहीं तुम्हारा
लाल है ।
लूटते हैं सब वाहवाही
खुदबखुद
वाह वाह गाल के तुम्हारी क्या बात है !!

No comments: